भारतीय परिधानिका



प्रथम चरण

रूपरंग(theme) - भारतीय परिधान : समूह के प्रत्येक प्रतिभागी को पारम्परिक भारतीय परिधानों में अपना छायाचित्र भेजना होगा। छायाचित्र प्रत्येक प्रतिभागी का एकल भी हो सकता है या पूरे समूह का हो सकता है।
समूह में केवल छात्र, केवल छात्राएँ या दोनों सहभागिता दर्ज करा सकते हैं|

द्वितीय चरण

रूपरंग (theme) - भारत में प्राचीन काल से ही एक समृद्ध कबायली (tribal) संस्कृति रही है| चाहे मध्य प्रदेश के भील हों या नागालैंड के नागा, या राजस्थान के बंजारे हों, हर कबायली सभ्यता की अपनी विशिष्ट शैली रही है| वर्तमान में भले ही इनकी संख्या घटती जा रही है लेकिन ना सिर्फ भारतीय कबायली वेशभूषा के साथ प्रयोग भारतीय फैशन जगत अपितु अंतर-राष्ट्रीय स्तर पर भी इस्तेमाल व सराहा जा रहा है|
भारत विविधताओं से भरा देश है जिसके हर राज्य की अपनी अलग संस्कृति है| हर राज्य की अपनी एक विशिष्ट पारंपरिक पोशाक है जो कि वहां की जीवन शैली को दर्शाती है| उदाहरण के लिए राजस्थान की राजस्थानी पोषक व बंगाल की बंगाली पोशाकें, यह सब उस राज्य की संस्कृति को दर्शाती हैं|

नियमावली

रूपरंग(theme) - भारतीय परिधान : समूह के प्रत्येक प्रतिभागी को पारम्परिक भारतीय परिधानों में अपना छायाचित्र भेजना होगा। छायाचित्र प्रत्येक प्रतिभागी का एकल भी हो सकता है या पूरे समूह का हो सकता है।
समूह में केवल छात्र, केवल छात्राएँ या दोनों सहभागिता दर्ज करा सकते हैं|
रूपरंग (theme) - भारत में प्राचीन काल से ही एक समृद्ध कबायली (tribal) संस्कृति रही है| चाहे मध्य प्रदेश के भील हों या नागालैंड के नागा, या राजस्थान के बंजारे हों, हर कबायली सभ्यता की अपनी विशिष्ट शैली रही है| वर्तमान में भले ही इनकी संख्या घटती जा रही है लेकिन ना सिर्फ भारतीय कबायली वेशभूषा के साथ प्रयोग भारतीय फैशन जगत अपितु अंतर-राष्ट्रीय स्तर पर भी इस्तेमाल व सराहा जा रहा है|
भारत विविधताओं से भरा देश है जिसके हर राज्य की अपनी अलग संस्कृति है| हर राज्य की अपनी एक विशिष्ट पारंपरिक पोशाक है जो कि वहां की जीवन शैली को दर्शाती है| उदाहरण के लिए राजस्थान की राजस्थानी पोषक व बंगाल की बंगाली पोशाकें, यह सब उस राज्य की संस्कृति को दर्शाती हैं|



मुख्य अतिथि

प्रथम पुरस्कार:

रु 10000

द्वितीय पुरस्कार:

रु 6000

तृतीय पुरस्कार:

रु 6000


पता

राजभाषा कार्यान्वयन समिति,

मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान,

भोपाल

फ़ोन:

+91 9926914484 आकाश जायसवाल

+91 7772970731 निष्ठा अनुश्री

अणुडाक:

राजभाषा कार्यान्वयन समिति 2017