event

सृजन

चित्रकला है आत्मखोज, चित्रकला है संरचना,
चित्रकला है जीवात्मा का सफ़र, चित्रकला ऐसी रचना

इस प्रतियोगिता का उद्देश्य भारतीय संस्कृति की सम्पूर्णता एवं महत्ता को आम जनता तक पहुँचाना तथा किसी प्रकार की भाषा इत्यादि जैसे पैमाने को बाध्यता रखे बिना भावनाओं को कला के माध्यम से प्रदर्शित करना है।
चित्रकला-
यह एक ऐसी कला है जिसमें भावों और विचारों को चित्र के द्वारा प्रदर्शित किया जाता है।
छायाकारी-
यह कला वास्तविकता से अवगत करता है। एक छायाकार एक क्षण की महत्ता को दर्शाता है।
संपर्क-
श्रेयस प्रताप सिंह +91-9685463175
श्रेया प्रकाश +91-9981523958

तूर्यनाद'18

  • यह चरण ऑनलाइन आयोजित किया जाएगा, जिसमें प्रतिभागियों को विषय पर आधारित अपनी प्रविष्टियाँ (चित्रकला एवं छायाकारी) tooryanaad@gmail.com भेजनी होंगी।
  • तूर्यनाद'18 की सृजन प्रतियोगिता का विषय है- "भारतीय त्योहार"।
  • निर्णायकों द्वारा दोनों वर्गों से श्रेष्ठ प्रविष्टियों का चयन अगले चरण के लिए किया जाएगा।
  • ऑनलाइन प्रविष्टि भेजने की अंतिम तिथि 6 सितम्बर है।
  • इस चरण में चयनित प्रतिभागियों को अपनी प्रविष्टि के साथ-साथ, प्रविष्टि का विवरण कुरियर द्वारा भेजना होगा या व्यक्तिगत रूप से अपनी प्रविष्टि को प्रदर्शित करने आना होगा।
  • कलाकृतियों के लिए प्रदर्शनी का आयोजन होगा।