समूह नृत्य

तूर्यनाद'16

हिंदी के महायज्ञ ‘तूर्यनाद’ को सांस्कृतिक बनाने एवं नृत्य-संगीत के माध्यम से राजभाषा हिन्दी को जन-जन तक पहुँचाने के उद्देश्य से तूर्यनाद’16 में ‘अखिल भारतीय समूह नृत्य प्रतियोगिता’ का आयोजन किया गया। यह प्रतियोगिता दो चरणों में संपन्न हुई। प्रतियोगिता में किसी भी महाविद्यालय के छात्र-छात्राएँ 4 से 8 व्यक्तियों के समूह में प्रतिभाग कर सकते थे। प्रथम चरण में प्रतिभागियों का चयन अपने नृत्य के भेजे गये 2 से 4 मिनट के चलचित्र के आधार पर किया गया। नृत्य, शास्त्रीय, लोकनृत्य, देशभक्ति या भारतीय संस्कृति से सम्बंधित हो सकते थे। द्वितीय चरण में सभी चयनित समूहों ने अपनी प्रस्तुति दी। द्वितीय चरण डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन सभागार, मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भोपाल में आयोजित किया था। प्रतियोगिता की कुल ईनामी राशि ₹ 20000 थी।

तूर्यनाद'15

भारत की सांस्कृतिक विविधता की मनोहर छटा अनुपम है। यहाँ पर विविध संस्कृतियों के दर्शन होते हैं, जिनकी भाषाएँ, परंपराएँ विविधता से परिपूर्ण है। इन सभी के शास्त्रीय नृत्यों की छटा तो अद्वितीय है। संस्कृतियों की इन्हीं विविधताओं से परिपूर्ण उनके शास्त्रीय नृत्यों को दर्शकों के सम्मुख प्रस्तुत करने के उद्देश्य से तूर्यनाद 15 में ‘अखिल भारतीय समूह नृत्य’ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। यह प्रतियोगिता दो चरणों में संपन्न हुई। प्रतियोगिता में किसी भी महाविद्यालय के छात्र-छात्राएँ 4 से 8 व्यक्तियों के समूह में प्रतिभाग कर सकते थे। प्रथम चरण में प्रतिभागियों का चयन अपने नृत्य के भेजे गये 2 से 4 मिनट के चलचित्र के आधार पर किया गया। नृत्य,शास्त्रीय, लोकनृत्य, देशभक्ति या भारतीय संस्कृति से सम्बंधित हो सकते थे। द्वितीय चरण में सभी चयनित समूहों ने महाविद्यालय के सभागार में प्रस्तुति दी। प्रतियोगिता की कुल पुरस्कार राशि ₹20000 थी।

तूर्यनाद'14

पुराणों में वर्णित है कि नृत्य एक ऐसी विधा है जिसके माध्यम से व्यक्ति अपने विचारों को बिना एक शब्द कहे सम्पूर्ण संसार को प्रकट कर सकता है। तूर्यनाद ने भी अपनी पारंपरिक आयोजनों से हटकर एवं रचनात्मकता को एक नयी दिशा देकर राष्ट्र स्तरीय प्रतियोगिता समूह नृत्य आयोजन किया। यह प्रतियोगिता दो चरणों में संपन्न हुई। प्रतियोगिता में किसी भी महाविद्यालय के छात्र-छात्राएँ 4 से 8 व्यक्तियों के समूह में प्रतिभाग कर सकते थे। प्रतियोगिता के प्रथम चरण में नृत्य समूहों को अपनी प्रस्तुति का एक लघु चलचित्र बनाकर भेजना था। प्रस्तुति में किसी भी लोकनृत्य की या किसी लोकगीत पर अपने नृत्य की प्रस्तुति दी जा सकती थी। प्रथम चरण में शीर्ष 8 समूहों का चयन द्वितीय चरण के लिए किया गया और सभी चयनित समूहों को अपनी प्रस्तुति के लिए संस्थान में आमंत्रित किया गया। नृत्य समूहों ने अनेकों लोक नृत्य जैसे ओडिषी, मटकी, अहिराई, नौराता, भगोरिया आदि पर प्रस्तुति दी। अंत में निर्णायक द्वारा शीर्ष 3 समूहों को विजेता घोषित किया गया। द्वितीय चरण डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन सभागार, मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भोपाल में आयोजित किया था। प्रतियोगिता की कुल ईनामी राशि ₹ 20000 थी।



पता

राजभाषा कार्यान्वयन समिति,

मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान,

भोपाल

फ़ोन:

+91 9926914484 आकाश जायसवाल

+91 7772970731 निष्ठा अनुश्री

अणुडाक:
tooryanaad@gmail.com

राजभाषा कार्यान्वयन समिति 2017