• हिंदी हैं हम

  • तूर्यनाद'16 मुख्य अतिथि

तूर्यनाद का परिचय

तूर्यनाद एक राष्ट्र स्तरीय हिंदी महोत्सव है, जिसका उद्देश्य राजभाषा हिंदी व भारतीय संस्कृति के प्रचार-प्रसार द्वारा देशवासियों में राष्ट्रगौरव व आत्मगौरव की भावना का विकास करना है । इसके अंतर्गत सितम्बर को हिंदी माह के रूप में मनाते हुए महाविद्यालयीन विद्यार्थियों हेतु अनेक राष्ट्र स्तरीय प्रतियोगिताएँ, कार्यशालाएँ, कवि सम्मलेन आदि कार्यक्रम आयोजित होते हैं ।तूर्यनाद हिंदी का औपचारिकता से परे जीवन में सम्मान के साथ उपयोग व प्रचार-प्रसार करने का सन्देश देता है । देश भर से विभिन्न महाविद्यालयों के विद्यार्थियों ने गत 2 वर्षों से तूर्यनाद में आशातीत प्रतिभागिता दर्ज करा आयोजकों को सबल किया है । तूर्यनाद'17 में भी इसी उत्साह के साथ आप सभी के योगदान की अपेक्षा है ।

12913

फेसबुक पर लाइक्स

5430

कुल पंजीयन

168

कुल प्रतिभागी महाविद्यालय

213000

कुल पुरस्कार राशि

तूर्यनाद के बारे में छात्रों के विचार

  • प्रतिस्पर्धा के बहाने संसदीय कार्यप्रणाली को सीखने का अवसर प्राप्त हुआ। इस प्रतियोगिता ने एहसास दिलाया कि वास्तविक कार्यप्रणाली उतनी आसान नहीं है जितनी लगती है।
    हम सांसदों के दायित्त्वों को समझने में सक्षम हुए।

    - शुभम पांडे

  • मुझे तूर्यनाद'16 में समूह नृत्य प्रतियोगिता की निर्णायक बन कर अत्यन्त खुशी हुई। मुझे कभी नहीं लगा था कि भारतीय संस्कृति पर आधारित नृत्य बिना किन्हीं पश्चिमी पहलुओं के,
    इतनी अच्छी प्रतिक्रिया प्राप्त करेगें परन्तु राजभाषा कार्यान्वयन समिति ने यह कर दिखाया।

    -वंदना सिंह

  • तूर्यनाद का प्रतिभागी बनना एवं समूह नृत्य में सफलता पाना, मेरे और मेरे समूह के लिए एक अविस्मरणीय अनुभव रहा। राजभाषा कार्यान्वयन समिति द्वारा की गयी व्यवस्था एवं स्वयंसेवकों का दल में एक साथ काम करना,
    दोनों ही प्रेरणादायक रहे ।

    -आशीष शर्मा

  • छात्र संसद में भाग लेकर मुझे अद्भुत अनुभव हुआ एवं बहुत कुछ सीखने को मिला। मैं राजभाषा कार्यान्वयन समिति और
    सभी आयोजकों की बहुत आभारी हूँ एवं तूर्यनाद के प्रति अपनी शुभकामनायें व्यक्त करती हूँ।

    - मालविका बावस्कर

पता

राजभाषा कार्यान्वयन समिति,

मौलाना आज़ाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान,

भोपाल

फ़ोन:

+91 9926914484 आकाश जायसवाल

+91 7772970731 निष्ठा अनुश्री

अणुडाक:
tooryanaad@gmail.com

राजभाषा कार्यान्वयन समिति 2017